गर्मी के मौसम में हर समय गला सूखता है और ठंडा पानी पीने की इच्छा रहती है। ऐसे में पानी की जगह नींबू पानी पीना सेहत के लिए काफी फायदेमंद होता है। शिकंजी में कई तरह के न्यूट्रिएंट्स होते हैं जो शरीर को कई बीमारियों से बचाते हैं। इस मौसम में काफी पसीना निकलता है जिससे कई बार शरीर में पानी की कमी हो जाती है तो ऐसे में नींबू पानी से काफी फायदा होता है। इससे शरीर को विटामिन-सी मिलता है जो शरीर के लिए बहुत जरूरी है लेकिन शिकंजी पीते समय कुछ बातों का खास ध्यान रखना चाहिए, नहीं तो शरीर को नुक्सान हो सकता है।

नींबू पानी के फायदे – 
1. वजन कम
शिंकजी पीने से शरीर का मैटाबॉलिज्म बढ़ता है जो मोटापा कम करने में काफी फायदेमंद है। जिन लोगों के शरीर का वजन ज्यादा होता है उन्हें बिना शक्कर वाला नींबू पानी पीना चाहिए।

2. एनर्जी
गर्मी में अक्सर धूप में जाने से शरीर की एनर्जी खत्म हो जाती है तो ऐसे में नींबू पानी का सेवन करना चाहिए। इसमें विटामिन-सी होता है जो तुरंत शरीर को ऊर्जा देता है।

3. सांस की बदबू
नींबू में एंटीबैक्टीरयल गुण होते हैं जो शरीर की बदबू को कम करने में मदद करते हैं। ऐसे में नींबू पानी पीने से सांस की बदबू दूर होती है।

4. ग्लोइंग स्किन
नींबू पानी पीने से शरीर में नमी बनी रहती है। गर्मियों में अक्सर पसीने की वजह से चेहरे की खूबसूरती खराब हो जाती है। ऐसे में रोजाना नींबू पानी पीने से चेहरे पर चमक आती है और बाल भी घने और मुलायम होते हैं।

5. हार्ट
नींबू पानी पीने से दिल से संबंधित समस्याएं ठीक होती हैं। इसमें पोटाशियम होता है जो हार्ट अटैक होने से बचाता है।

ध्यान रखने योग्य बातें – 
– हमेशा घर पर बनी शिंकजी ही पीएं। मार्किट में मिलने वाले नींबू पानी पीने से शरीर में इन्फैक्शन हो सकती है क्योंकि वह काफी अनहाइजिनिक होता है।

नींबू पानी बनाते समय इसमें चीनी कम डालें। चीनी ज्यादा होने की वजह से शरीर का वजन बढ़ सकता है।

शिकंजी में नींबू डालते समय इस बात का ध्यान रखें कि नींबू को पूरी तरह से न निचोड़ें। इससे नींबू की कड़वाहट से शिकंजी का टेस्ट खराब हो सकता है।

– शिकंजी में साइट्रिक एसिड की मात्रा अधिक होती है। इसलिए जिन लोगों को एसिडिटी और हार्ट बर्न  जैसी प्रॉब्लम हो उन्हें शिकंजी का सेवन नहीं करना चाहिए। ऐसे में ये समस्याएं और बढ़ सकती हैं।

नींबू पानी में ऑक्सलेट्स होते हैं जो शरीर में क्रिस्टल के रूप में जमा हो जाते हैं जिससे लीवर और किडनी की प्रॉब्लम हो सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)